RSS

मंगलवार, 20 मार्च 2012

मत पूछना.....!!!!

मत  पूछना
मै  कहाँ  खोई  हूँ 
पता  तो  तुम्हे  भी  है 
ज़माने  से  कह  कर, क्या  करुँगी  , 
अगर  तुम  सुनोगे , तो  कुछ  कहूँगी  ...!!!


6 टिप्पणियाँ:

सदा ने कहा…

बहुत बढि़या।

रश्मि प्रभा... ने कहा…

चंद पंक्तियों में गहरी वेदना और चाहत

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बेहतरीन

सादर

mridula pradhan ने कहा…

zara si baat.....lekin achchi lagi.

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…





अगर तुम सुनोगे , तो कुछ कहूँगी ...!!!

सुंदर रचना

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…

‎.

♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥
नव संवत् का रवि नवल, दे स्नेहिल संस्पर्श !
पल प्रतिपल हो हर्षमय, पथ पथ पर उत्कर्ष !!
-राजेन्द्र स्वर्णकार
♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥♥

*चैत्र नवरात्रि और नव संवत २०६९ की हार्दिक बधाई !*
*शुभकामनाएं !*
*मंगलकामनाएं !*

एक टिप्पणी भेजें